Special Offers

Bagalamukhi Puja (मां बगलामुखी पूजा)

Bagalamukhi Puj...

..

Rs. 5,000 Rs. 7,000

Kalsarpa Yog Puja (कालसर्प योग पूजा)

Kalsarpa Yog Pu...

कालसर्प एक ऐसा योग है जो जातक के पूर्व जन्म के किसी जघन्य अपराध के दंड या शाप के फलस्वरूप उसकी जन्मकुंडली में परिलक्षित होता है। व्यावहारिक रूप से पीड़ित व्यक्ति आर्थिक व शारीरिक रूप से परेशान तो होता ही है, मुख्य रूप से उसे संतान संबं..

Rs. 6,000

Mangal Dosh Shanti Puja (मांगलिक दोष पूजा)

Mangal Dosh Sha...

जिस जातक की जन्म कुंडली में लग्न/चंद्र कुण्डाल्यादि मंगल ग्रह लग्न से लग्न में (प्रथम), चतुर्थ, सप्तम, अष्टम तथा द्वादश भावों में से कहीं भी स्थित हो, तो उसे मांगलिक कहते हैं।मांगलिक कुंडली का मिलान : वर,तथा कन्या दोनों की ही कुंडली मांगलिक हों तो वि..

Rs. 5,000

Pitra Dosh Nivaran Puja (पितृदोष पितृशांति)

Pitra Dosh Niva...

हिन्दू धर्म में मृत्यु के बाद श्राद्ध करना बेहद जरूरी माना जाता है। मान्यतानुसार अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है।  पितृ पक्ष का महत्..

Rs. 10,000

Shani Sade Sati Puja (शनि साड़ेसाती पूजा)

Shani Sade Sati...

ज्योतिष के अनुसार शनि की साढेसाती की मान्यतायें तीन प्रकार से होती हैं, पहली लगन से दूसरी चन्द्र लगन या राशि से और तीसरी सूर्य लगन से, उत्तर भारत में चन्द्र लगन से शनि की साढे साती की गणना का विधान प्राचीन काल से चला आ रहा है। इस मान्यता के अनुसार जब..

Rs. 9,000